मानव संसाधन
अपने कर्तव्यों का प्रभावी सम्पादन करने हेतु नगर निगम को मानव संसाधन की आवश्यकता होती है। नगर निगम के कार्यों का उचित कि्रयान्वयन हेतु विभिन्न तरीके अपनाये जाते है जो निम्न है -
  • नगर पालिका अपने मानव संसाधन का प्रयोग अपने कार्य के कि्रयान्वयन के लिये करता है। नगर निगम में कार्यरत कर्मचारी या तो नगरीय विकास विभाग से सम्बन्धित होते है या वे नगर निगम के अन्य विभागों प्रतिनिधि होते है।
  • नगर विकास विभाग से सम्बन्धित नगर निगम में कार्यरत कर्मचारी
  • नगर पालिका के अन्य विभागों के प्रतिनिधी जो वहां कार्यरत है। tSls %&
 
  • नगर स्वास्थ्य अधिकारी स्वास्थ्य विभाग का प्रतिनिधी होता है।
 
  • नगर पालिका आयुक्त अक्सर पी.सी.एस. कैडर का होता है। वह नगर पालिका में प्रतिनिधि के रूप में मान्य होता है।
नगर पालिका में कार्यरत कर्मचारी दो कैडर से आते है-
1- उत्तर प्रदेश पालिका केन्द्रीय सर्विसेज कैडर
2-उत्तर प्रदेश पालिका अ केन्द्रीय सर्विसेज कैडर
1- उत्तर प्रदेश पालिका केन्द्रिय सर्विसेज कैडर -
  यह एक स्थानान्तरित कैडर है। इस कैडर से सम्बन्धित कर्मचारी उत्तर प्रदेश केन्द्रिय सर्विसेज सल्स 1966 के द्वारा शासित होता है।
2- उत्तर प्रदेश पालिका अकेन्द्रिय सर्विसेज कैडर -
  नगर पालिका ने अन्य तृतीय पार्टियों को कायरे को देना प्रारम्भ कर दिया है। आज की अर्थव्यस्था में, आधिक योग्य और पारंगत संगठनों को जब भी कार्य हो, उपलब्ध कराना चाहिये जबकि मुख्य संगठन को अपने कार्य के उऱ्देशों पर ध्यान केन्द्रित करना चाहिये।
सूचना एवं तकनीकी से सम्बन्धित कई कार्य अन्य देशों जैसे-यूनाइटेड स्टेट्स, कैनाडा, यूरोप आदि से सम्बन्धित संगठनों द्वारा भारत के सूचना एवं तकनीकी विभाग को दिया जाना इस चलन को चित्रार्थ करता है।