हमारा प्रबंधन
स्थानीय सरकार की एक संस्था होने के कारण हमारे दोनो अंगों में भिन्नता है -
1. विधान सभा
2- प्रशासकीय अंग
विधान सभा एक शासकीय निकाय है। उस भौगोलिक क्षेत्र में रहने वाले नागरिकों के द्वारा यह शासकीय निकाय चयनित किया जाता है। भौगोलिक क्षेत्र को निर्वाचकीय वार्डो में बांटा गया है। प्रत्येक वार्ड अपना एक प्रतिनिधी शासकीय निकाय में भेजने हेतु चुनता है। शासकीय निकाय के अन्य सदस्य है -
1. सदस्य विधान सभा
2. सदस्य संसद
3. नगर निगम आयुक्त
4. जिला न्यायधीश
शासकीय निकाय हेतु चुनाव, राज्य (चुनाव) निर्वाचन आयोग द्वारा आयोजित कराये जाते है। 18 वर्ष से अधिक आयु के व्यक्ति चुनाव में वोट देने के वांछनीय है। कुछ प्रतिबन्ध होते है। अधिक जानकारी के लिए कृपया राज्य निर्वाचन आयोग से सम्पर्क करें जिसका कार्यालय जिला-कार्यालय जिला लखनऊ में है।
शासकीय निकाय संवैधानिक (ढांचों) रूपरेखा के अन्तर्गत कार्य करती है और विभिन्न अधिनियम उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा बनाये जाते है।
प्रशासकीय अंग नगर पालिका आयुक्त के नेतृत्व में होता है। नगरपालिका आयुक्त अक्सर राज्य सरकार अधिकारी होता है और वह पी.सी.एस संवर्ग का होता है और हमारे राज्य सरकार द्वारा हमें प्रतिनिधित्व के रूप में कार्य करने हेतु होता है। वह प्रशासकीय अनुभव को दिन प्रति दिन के कार्यों और नगरीय स्थानीय निकाय के क्रियाशील होने में प्रयुक्त करता है। नगरीय स्थानीय निकाय के अधिकारियों की टीम उसकी सहायता करती है। नगर स्थानीय निकाय के मानव संसाधन के विषय में अधिक जानकारी इस वेबसाइट मे जनशक्ति नामक मैन्यू से प्राप्त की जा सकती है।